नालंदा – मां का एक ऐसा मंदिर जहाँ नवरात्र में महिलाओं का है प्रवेश वर्जित।

Must Read

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बिहार कि जनताओ से नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री बनाने का अपील किया ।

भाजपा के वरिष्ट नेता और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि बिहार को विकास की ऊचाईयों...

वाल्मीकिनगर लोकसभा से कांग्रेस प्रत्याशी प्रवेश मिश्र ने क्षेत्र परिभ्रमण कर जनसमर्थन का किया अपील।

वाल्मीकिनगर लोकसभा कांग्रेस प्रत्याशी प्रवेश मिश्र शुक्रवार को अपने समर्थकों के साथ चौतरवा,धनहा,भितहां थाना क्षेत्र के विभिन्न...

बगहा;आगामी लोकसभा/विधानसभा उपचुनाव में मतदाता जागरूकता के उद्देश्य से बीडीओ कुमार प्रशांत ने सभी सेविकाओं को किया निर्देशित।

बगहा:-आगामी विधानसभा/लोकसभा चुनाव को लेकर मतदाता जागरूकता के उद्देश्य से बगहा एक प्रखण्ड...

नालंदा जिले के गिरियक प्रखण्ड के घोसरावां गांव स्थित मां आशापूरी मंदिर में शारदीय और वासंतिक नवरात्र में महिलाओं का प्रवेश वर्जित रहता है । महिलाएं बाहर से ही मां आशापुरी का दर्शन करेंगे। नवरात्र समाप्ति के बाद 10वीं से महिलाएं मंदिर में पूजा कर सकेंगी।

क्या है मान्यता: –

इस प्राचीन मंदिर में तांत्रिक विधि से नवरात्र की पूजा होती है। इसी कारण महिलाओं के प्रवेश निषेध की परंपरा है। वर्षों से चली आ रही इस परंपरा को अभी तक निभाया जा रहा है। नियमों के अनुसार शारदीय नवरात्र के दौरान महिलाओं का मंदिर परिसर के साथ ही गर्भगृह में जाने की मनाही होती है। वहीं वासंतिक नवरात्र में मंदिर में प्रवेश तो होता है, लेकिन गर्भगृह में जाने पर प्रतिबंध रहता है।

चली आ रही परंपरा:-

पुजारी पुरेंद्र उपाध्याय बताते हैं कि सैकड़ों सालों से यह परंपरा चली आ रही है, जिसे हमलोग आज भी निभा रहे हैं। इसमें कोई तब्दीली करने के संबंध में अभी तक कोई बात नहीं हुई है, इसी कारण नियम को सब लोग मानते हैं।पालकालीन है मंदिर में

अष्टभुजी है मां की प्रतिमा :-

पं. बालमुकुंद उपाध्याय बताते हैं कि मां आशापुरी का यह मंदिर अतिप्राचीन है। इसकी स्थापना मगध साम्राज्य के पालकाल में माना जाता है। यहां मां दुर्गा की अष्टभुजी प्रतिमा स्थापित है जो मां दुर्गा के नौ रूपों में से एक सिद्धिदात्री स्वरूप में पूजित हैं। घोसरावां मंदिर के पुजारियों के मुताबिक इस मंदिर में सबसे पहले राजा जयपाल ने पूजा की थी। मंदिर की स्थापना के पीछे की कहानी यह है कि यहां एक गढ़ हुआ करता था जिसपर मां आशापुरी विराजमान थीं। गढ़पर ही आज भी मां का मंदिर बना हुआ है। सभी भक्तों की मनोकामनाएं पूरी करती हैं मां आशापुरी। यहां हर मंगलवार को काफी भीड़ जुटती है।

- Advertisement -

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest News

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बिहार कि जनताओ से नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री बनाने का अपील किया ।

भाजपा के वरिष्ट नेता और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि बिहार को विकास की ऊचाईयों...

वाल्मीकिनगर लोकसभा से कांग्रेस प्रत्याशी प्रवेश मिश्र ने क्षेत्र परिभ्रमण कर जनसमर्थन का किया अपील।

वाल्मीकिनगर लोकसभा कांग्रेस प्रत्याशी प्रवेश मिश्र शुक्रवार को अपने समर्थकों के साथ चौतरवा,धनहा,भितहां थाना क्षेत्र के विभिन्न गांवों का परिभ्रमण कर जनता...

बगहा;आगामी लोकसभा/विधानसभा उपचुनाव में मतदाता जागरूकता के उद्देश्य से बीडीओ कुमार प्रशांत ने सभी सेविकाओं को किया निर्देशित।

बगहा:-आगामी विधानसभा/लोकसभा चुनाव को लेकर मतदाता जागरूकता के उद्देश्य से बगहा एक प्रखण्ड के सभागार भवन में शुक्रवार...

प•चम्पारण के जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक द्वारा चेकपोस्ट और बूथों का लिया गया जायजा।

प•चम्पारण के जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक द्वारा चेकपोस्ट और बूथों का लिया गया जायजा।बूथों पर सभी तैयारी ससमय पूर्ण कराने का दिया...

नरकटियागंज-साइबर अपराधियो ने बैंक अधिकारी बता कर उड़ाए करीब 21 हजार।

नरकटियागंज-साइबर अपराधियो ने बैंक अधिकारी बता कर उड़ाए करीब 21 हजार.मामला नरकटियागंज के रेलवे कलोनी से जुड़ा हुआ है रेलवे कॉलनी निवासी...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -