कभी अतिवृष्टि तो कभी अनावृष्टि कहीं भूस्खलन इतनाहीं नहीं लगातार भू-जल स्तर में गिरावट हमारी भौतिकता की चाह में हरे-भरे पेड़ो की कटाई का ही दुष्परिणाम है।

पेड़ो की लगातार कटाई के चलते पर्यावरण संतुलन डगमगा गया है।समय रहते इसका समाधान नहीं किया गया तो इसका खामियाजा हमारी भावी पीढ़ियों को उठाना पड़ेगा।और इसका स्थायी उपाय वृक्षारोपण और उसका संरक्षण ही है।उक्त बातें विश्व पर्यावरण दिवस पर वृक्षारोपण के पश्चात लोगों को जागरूक करते हुए तेजस्विनी क्लब की अध्यक्षा निर्मला देवी ने कही।गौरतलब हो धनबाद के जोगटा थाना क्षेत्र स्थित टाटा सिजुआ दलित बस्ती में तेजस्वनी क्लब की महिला सदस्यों ने दर्जनों सार्वजनिक स्थलों पर वृक्षारोपण कर पर्यावरण की रक्षा के लिए लोगों को जागरूक किया।इतनाहीं नहीं उन वृक्षों का संरक्षण करने का बीड़ा भी कोई और नहीं बल्कि क्लब की भारती कुमारी, चंचल कुमारी कोमल कुमारी , रेशमी कुमारी अनिता कुमारी सुजाता कुमारी ज्योति कुमारी गायत्री कुमारी, दीपाली महतो ने ही उठाई है।

जयप्रकाश मिश्रा